Jiyyo Healthcare Blog

क्या है ब्लैक फंगस- कारण, लक्षण और कैसे ब्लैक फंगस से बचें ?

क्या है ब्लैक फंगस- कारण, लक्षण और कैसे ब्लैक फंगस से बचें ?

2019 के अंत में दुनिया में एक बीमारी ने जन्म लिया जिससे कोरोना या कोविड-19 का नाम दिया गया। यह बीमारी इतनी तेज़ी से फैलती है और यह व्यक्ति की जान तक ले सकती है, इस बात को देखते हुए डब्लूएचओ अर्थात वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ने कोरोना को महामारी घोषित कर दिया। पूरा देश और विश्व इस महामारी से अभी भी लड़ रहा है और इसे पूरी तरह से भगाने की कोशिश में जुटा हुआ है। अभी यह महामारी पूरी तरह से ख़त्म होती कि एक और बीमारी डॉक्टरों की नज़र में आईं। इस बीमारी को ब्लैक फंगस नाम दिया गया है। कोरोना वायरस की तरह ही इस बीमारी का एक इतिहास है। यह बीमारी कई साल पहले भी फैल चुकी है और कोरोना वायरस की सेकेंड वेव अर्थात दूसरी लहर के बाद पुनः इस बीमारी ने अपना प्रभाव दिखाया है।

तनाव के कारण, लक्षण व इलाज

तनाव के कारण, लक्षण व इलाज

आज की दुनिया में कोई भी ऐसा व्यक्ति नहीं है जिसको तनाव ना होता हो। तनाव का होना अच्छी बात है परंतु एक हद के बाहर तनाव का हो जाना यह खतरनाक हो सकता है। जब यही तनाव हमारी रोजमर्रा की जिंदगी में हमें परेशान करने लगता है तभी दिक्कत आती है। जिस व्यक्ति को तनाव हमेशा रहता है उसको इलाज के लिए किसी से सलाह लेना चाहिए। यह बात याद रखें कि यह कोई शर्म की बात नहीं है। यह कोई पागलपन या कोई बीमारी नहीं बल्कि ऐसा कभी भी किसी भी व्यक्ति के साथ हो सकता है।

क्या है HIV/AIDS - कारण और बचाव पर एक महत्वपूर्ण गाइड

क्या है HIV/AIDS - कारण और बचाव पर एक महत्वपूर्ण गाइड

एड्स एक ऐसी बीमारी है जो HIV नामक वायरस के शरीर में आ जाने से होती है। इसका फ़ुल फ़ार्म एक्वायर्ड एमीनों डेफिशियेन्सी सिंड्रोम (Acquired Immunodeficiency syndrome) होता है। एड्स से पीड़ित व्यक्ति का इम्यून सिस्टम कमज़ोर हो जाता है।

कैसे टेलीमेडिसिन के माध्यम से बदलते ग्रामीण भारत के पीछे जियो मित्र ई-क्लिनिक एक बड़ा स्तंभ है ?

कैसे टेलीमेडिसिन के माध्यम से बदलते ग्रामीण भारत के पीछे जियो मित्र ई-क्लिनिक एक बड़ा स्तंभ है ?

आज भारत एक ऐसी महामारी से जूझ रहा है जिससे बचना मुस्किल है और ऐसे में अस्पताल जाना किसी और बिमारी को निमंत्रण देने के बराबर है। इस दौर में दूरचिकित्सा(telemedicine) मेडिकल उपचारों का बढ़िया साधन बनता जा रहा है। भारत की 60 प्रतिशत जनसंख्या इसका उपयोग करती है। पर आज भी गांव में दूरचिकित्सा पूर्णतः संभव नहीं।